My expression in words and photography

बुधवार, 29 दिसंबर 2010

नूतन वर्ष अभिनन्दन

नया साल मनाएँ

गए साल की बीती यादें
एक नया इतिहास बनाएँ
आओ हम सब मिल-जुल कर
यह नया साल मनाएँ.

जब चहुँ ओर हरियाली होगी
देश में तब खुशहाली होगी
जन-जन के जीवन को हम
एक सुखमय आदर्श बनाएँ
आओ हम सब मिल-जुल कर
यह नया साल मनाएँ.

स्वास्थ्य जीवन रक्षक होगा
स्वाध्याय हमारा लक्ष्य होगा
ऊँच-नीच के भेद मिटाकर
एक नया समाज बनाएँ
आओ हम सब मिल-जुल कर
यह नया साल मनाएँ.

समय तो यूँ ही चलता रहेगा
जो दुःख कल था कल न रहेगा
नए साल की पहली सुबह का
एक अभिनन्दन गान हम गाएँ
आओ हम सब मिल-जुल कर
यह नया साल मनाएँ.

4 टिप्‍पणियां:

  1. ham saath saath hain...
    naye warsh kee dher saaree shubhkaamnayen...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्‍तुति । आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. जय श्री कृष्ण...आपका लेखन वाकई काबिल-ए-तारीफ हैं....नव वर्ष आपके व आपके परिवार जनों, शुभ चिंतकों तथा मित्रों के जीवन को प्रगति पथ पर सफलता का सौपान करायें .....मेरी कविताओ पर टिप्पणी के लिए आपका आभार ...आगे भी इसी प्रकार प्रोत्साहित करते रहिएगा ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. @पूजा
    @डोरोथी
    @डिम्पल महेश्वरी
    आप सब को मेरी कविता पसंद आई, इसके लिए आप सब का बहुत बहुत धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं