My expression in words and photography

शुक्रवार, 5 नवंबर 2010

बच्चों के लिए


बूझो तो जानें
प्राणी जगत में मिलता यह
एक ऐसा विचित्र जीव है
जिस पर आज टिकी हुई
इस मरू-जीवन की नींव है.

मरुस्थल का जहाज़ कहलाता
हर मुश्किल आसान बनाता
रेतीली राहों पर चल कर
सब को अपनी मंजिल पहुंचाता.

सूखे के दिनों में कुछ न मिलता
कम चारे पानी पर रहता
काम मगर फिर भी यह करता
मेहनत से कभी न डरता.

अकाल से पीड़ित देहातों में
इनकी महिमा न्यारी है
इसका दूध है जीवन अमृत
जो स्वास्थ्यवर्धक गुणकारी है

4 टिप्‍पणियां:

  1. हिंदी साहित्य में बाल लेखन एक उपेक्षित सी विधा बन कर रह गया है.इस स्थिति में इस दिशा में कोई भी प्रयास सराहनीय है.शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बाल लेखन में सराहनीय योगदान

    उत्तर देंहटाएं
  3. राजस्थान में स्कूलों में ऊंट पर निबंध लिखना सिखाया जाता है | बच्चों को यह कविता भी बहुत पसंद आएगी |

    उत्तर देंहटाएं